कही पर्वत झुके भी है कही दरिया रुकी भी है।rss geet gangeet | kahi parwat jhuke

कही पर्वत झुके भी है rss geet

 

कही पर्वत झुके भी है , कही दरिया रुकी भी है।

नहीं झुकती जवानी है , नहीं रूकती रवानी है। । २

 

गुरु गोविन्द के बच्चे , उम्र में थे अभी कच्चे।

पर वे सिघ  बच्चे , धर्म ईमान के सच्चे।

गरज कर बोल उठे वे यो , सिघ मुख खोलते थे ज्यों।

नहीं हम झुक नहीं सकते , नहीं हम रुक नहीं सकते।

हमे निज देश प्यारा है , पिता दशमेश प्यारा है।

हमे निज धर्म प्यारा है , श्री गरुग्रन्थ प्यारा है। ।

 

नहीं झुकती जवानी है , नहीं रूकती रवानी है।

जोरावार जोर से बोला  , फ़तेह सिंघ शोर से बोला।

रखो ईटें भरो गारे , चिनो दीवार हत्यारे।

निकलती श्वांस बोलेगी , हमारी लाश बोलेगी।

यही दीवार बोलेगी , हज़ारों बार बोलेगी।

हमारे देश की जय हो , पिता दशमेश की जय हो।

हमारे धर्म की जय हो , श्री गुरुग्रंथ की जय हो। ।

नहीं झुकती जवानी है , नहीं रूकती रवानी है।

निज गौरव को निज वैभव को क्यों हिन्दू बहदुर भूल गए | NIJ GAURAV KO BAIBHW KO

संगठन गढ़े चलो सुपंथ पर बढे चलो। आरएसएस गीत।

आज पूजा की घडी है।rss geet | हिंदी गीत

sangh geet mala rss geet | संगठन हम करें।संगठन गढ़े चलो।जिनके ओजस्वी वचनो से

भारत का भूगोल तड़पता। गण गीत | bharat ka bhugol tadpta geet |

आपसे अनुरोध है कि अपने विचार कमेंट बॉक्स में सम्प्रेषित करें। 

फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से अपने सुभेक्षु तक भेजें। 

अपना फेसबुक लाइक तथा यूट्यूब पर सब्स्क्राइब करना न भूलें। 

facebook  page

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *