कांग्रेस मुक्त भारत से खुद को संघ ने अलग किया। RSS NEWS | संघ समाचार

कांग्रेस मुक्त भारत से खुद को संघ ने अलग किया

‘ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ‘ के सरसंघचालक मोहन राव भागवत ने एक बड़ा बयान देते हुए यह कहा कि – ” कांग्रेस मुक्त जैसे नारे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नहीं है ! यह नारा तो राजनीतिक मुहावरा है।”

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में तोड़ने नहीं जोड़ने की बात करते हैं , संघ में सभी को जुड़ने की बात कही जाती है चाहे वह जाति पर आधारित हो अथवा धर्म पर आधारित राष्ट्रीय स्वयंसेवक इन सबका मिश्रण है। इसलिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ‘ कांग्रेस मुक्त ‘ का नारा नहीं दे सकती दरअसल RSS को अपना वैचारिक मातृ संगठन मानने वाली बीजेपी ने शीर्ष नेतृत्व के अवसर पर कांग्रेस मुक्त भारत की बात की है। इसलिए विपक्ष ने इस पर हमला करते हुए संघ को निशाना बनाते हुए आलोचना की है। १ अप्रेल २०१८ रविवार को भागवत जी ने एक कार्यक्रम में कहा ” यह राजनीतिक नारे हैं , राजनीति मैं मुक्त आदि शब्द का इस्तेमाल किया जाना आम बात है हम किसी को चाटने अथवा अभद्र भाषा का इस्तेमाल कभी नहीं करते हमें राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में सभी लोगों को शामिल करना है। चाहे वह किसी भी जाति धर्म से हो उन लोगों को भी जो हमारा विरोध करते हैं। ”

 

अगर किसी पार्टी से मुक्ति की बात करते है तो फिर पर्तिस्पर्धा नहीं रह जाती  ऐसे में एक पार्टी जो बचेगी उसमे अहंकार का भाव जन्म लेगा जो राष्ट्रहित में लाभदायक नहीं होगा। इस कारण संघ किसी का विरोध नहीं करता , संघ केवल राष्ट्रनिर्माण में सहयोग की कामना करता है। जो राष्ट्र निर्माण में बाधक है उसका संघ स्पष्ट विरोध करता है और करेगा। आज राष्ट्रविरोधी शक्तियां पांव पसार रही है जिसके कारण राष्ट्र निर्माण में बढ़ा उत्त्पन्न हो रहा है। ऐसी शक्ति से हमे कठोरता से सामना करना होगा। अन्यथा बहुत देर हो जायेगा।

संघ गीत

यह भी पढ़ें – संघ सरचालकों की शैक्षणिक योग्यता

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है |

Leave a Comment

error: Content is protected !!