जिनके ओजस्वी वचनो से गूंज उठा था विश्व गगन। स्वामी पूज्य विवेकानंद। संघ गीत

जिनके ओजस्वी वचनो से , गूंज उठा था विश्व गगन

 

जिनके ओजस्वी वचनो से , गूंज उठा था विश्व गगन

वही प्रेरणा पुंज हमारे ,  स्वामी पूज्य विवेकानंद। २

जिनके माथे गुरु कृपा थी , दैनिक गुण आलोक भरा।

अद्भुत प्रज्ञा परकटी जग में , धन्य – धन्य यह पुण्य धरा।

सत्य सनातन परम ज्ञान का , जो करते अभिनव चिंतन।

वही प्रेरणा पुंज हमारे ,  स्वामी पूज्य विवेकानंद।

जिनके ओजस्वी वचनो से , गूंज उठा था विश्व गगन

जिनका फौलादी भुजबल था , हर संकट में सदा अटल।

मर्यादित तेजस्वी जीवन , सजग समर्पित था हर पल।

हो निर्भय जो करे गर्जना , जिनके अन्तस दिव्य अगन।

वही प्रेरणा पुंज हमारे ,  स्वामी पूज्य विवेकानंद।

जिनके ओजस्वी वचनो से , गूंज उठा था विश्व गगन

जिसके रोम रोम म करुणा , समरस जनजीवन की चाह।

नष्ट करे सारे भेदों को , सेवाव्रत ही सच्ची राह।

दरिद्र ही नारायण जिनका , हर धड़कन में अपमान।

वही प्रेरणा पुंज हमारे ,  स्वामी पूज्य विवेकानंद।

जिनके ओजस्वी वचनो से , गूंज उठा था विश्व गगन

जिसके मन था स्वपन महान , हो भारत का पुनरुथान।

जीवनदीप में सब जलाकर पाए , गौरवमय – वैभव , सम्मान।

जगती में सब सुखद – सुमंगल , बहे सुगन्धित मुक्त पवन।।

वही प्रेरणा पुंज हमारे ,  स्वामी पूज्य विवेकानंद।

जिनके ओजस्वी वचनो से , गूंज उठा था विश्व गगन

वही प्रेरणा पुंज हमारे ,  स्वामी पूज्य विवेकानंद।।

 

इस भगवा ध्वज को ‘ श्री रामचंद्र ‘ ने राम – राज्य में ‘ हिंदूकुश ‘ पर्वत पर फहराया था , जो हिंदू साम्राज्य के वर्चस्व का परिचायक है।  इसी भगवा ध्वज को ‘ वीर शिवाजी ‘ ने मुगल व आताताईयों को भगाने के लिए थामा था। वीरांगना लक्ष्मीबाई ने भी साँस छोड़ दिया , किंतु भगवा ध्वज को नहीं छोड़ा।

इस भगवा प्लेटफार्म से हम हिंदू अथवा हिंदुस्तान के लोगों से एक सभ्य व शिक्षित समाज की कल्पना करते हैं। जिस प्रकार से राम – राज्य में शांति और सौहार्द का वातावरण था , वैसे ही राज्य की कल्पना हम इस समाज से करते हैं।

यह भी पढ़े संघ गीत माला 

आपसे अनुरोध है कि अपने विचार कमेंट बॉक्स में सम्प्रेषित करें। 

फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से अपने सुभेक्षु तक भेजें। 

अपना फेसबुक लाइक तथा यूट्यूब पर सब्स्क्राइब करना न भूलें। 

facebook  page

Leave a Comment

error: Content is protected !!