जीना है तो गरजे जग मे हिन्दू हमसब एक। गणगीत। gangeet rss | rss geet hindi

जीना है तो गरजे जग मे हिन्दू हमसब एक

गणगीत gangeet rss

 

जीना है तो गरजे जग में हिंदू हम सब एक ,

उलझे सुलझे प्रश्नों का है उत्तर केवल एक। । 2

 

केशव के चिंतन दर्शन से संघटना का मंत्र सिखाया

आजीवन अविराम साधना तिल-तिल कर सर्वस्व चढ़ाया। 

एक दीप से जले दूसरा जलते दीप अनेक। ।

जीना है तो गरजे जग में…………………………………….

 

 

भाषा भूषा मत वादों की बहुरंगी यह परंपरा

सर्वधर्म समभाव सिखाती ऋषि मुनियों की दिव्य धारा

इंद्र धनुष की छटा स्रोत मैं शुभ्र रंग है एक। ।

जीना है तो गरजे जग में…………………………………….. 

 

 

स्नेह समर्पण त्याग हृदय में , सभी दिशा में लाएंगे

क्षमता की नव जीवन रचना हम सब को अपनाएंगे

आज समय की यही चुनौती भूले भेद अनेक। ।

जीना है तो गरजे जग में……………………………………….

 

 

भगीरथ के त्याग तपों  से आई भू पर गंगा धारा

संग रुप में वही जाह्नवी माधव ने हे सतत संवारा

हुवे यहीं पर विकसित कितने तट पर तीर्थ अनेक। ।

जीना है तो गरजे जग मे…………………………………….

उलझे सुलझे प्रश्नों का है उत्तर केवल एक। । 2

 

स्वयं अब जागकर हमको जगाना देश है अपना।वर्ग गीत आरएसएस। rss varg geet |

बढ़ना ही अपना काम है | आरएसएस गीत 

मातृभूमि गान से गूंजता रहे गगन। गणगीत rss | संघ का उत्तम गणगीत। rss best geet

 

स्वामी विवेकानंद।अमृत वचन। amrit vachan | सुविचार।RSS अमृत वचन

अमृत वचन। RSS AMRIT VACHAN | संघ के कार्यक्रम हेतु अमृत वचन।

आपसे अनुरोध है कि अपने विचार कमेंट बॉक्स में सम्प्रेषित करें। 

फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से अपने सुभेक्षु तक भेजें। 

अपना फेसबुक लाइक तथा यूट्यूब पर सब्स्क्राइब करना न भूलें। 

facebook  page

यह भी पढ़े संघ गीत माला 

Leave a Comment

error: Content is protected !!