निज गौरव को निज वैभव को

निज गौरव को निज वैभव को क्यों हिन्दू बहदुर भूल गए | NIJ GAURAV KO BAIBHW KO

निज गौरव को निज वैभव को

NIJ GAURAV KO NIJ VAIBHW KO

 

 

निज गौरव को निज वैभव को , क्यों हिन्दू बहदुर भूल गए।

उपदेश दिया जो गीता में , क्यों सुना सुनना भूल गए। ।२

 

रावण ने सीया चुराई थी , सोने की लंका जलाई थी।

अब लाखों सीया हरी गई , क्यों लंका जलाना भूल गए। ।

निज गौरव को निज वैभव को , क्यों हिन्दू बहदुर भूल गए।

 

कान्हा ने रास रचाया था , दुष्टों को मार भगाया था।

अब रास रचना याद रहा , क्यों चक्र चलना भूल गए।

निज गौरव को निज वैभव को , क्यों हिन्दू बहदुर भूल गए।

 

निज गौरव को निज वैभव को
निज गौरव को निज वैभव को

 

राणा ने राह दिखाई थी , शिवराज ने भी अपनाई थी।

जिस राह पर बाँदा वीर चला , उस राह पर चलना भूल गए। ।

निज गौरव को निज वैभव को , क्यों हिन्दू बहदुर भूल गए

 

भारत माँ की है पुकार यही , केशव की है ललकार यही।

जिस गोद में पलकर बड़े हुए , क्यों मान बढ़ाना भूल गए। ।

निज गौरव को निज वैभव को , क्यों हिन्दू बहदुर भूल गए।

उपदेश दिया जो गीता में , क्यों सुना सुनना भूल गए। ।

निज गौरव को निज वैभव को , क्यों हिन्दू बहदुर भूल गए।

 

स्वयं अब जागकर हमको जगाना देश है अपना

बढ़ना ही अपना काम है | आरएसएस गीत 

मातृभूमि गान से गूंजता रहे गगन। गणगीत rss

संघ चेतना बढ़ना अपना काम है।rss geet | 

आपसे अनुरोध है कि अपने विचार कमेंट बॉक्स में सम्प्रेषित करें। 

फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से अपने सुभेक्षु तक भेजें। 

अपना फेसबुक लाइक तथा यूट्यूब पर सब्स्क्राइब करना न भूलें। 

facebook  page

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *