पूज्य मां की अर्चना

पूज्य मां की अर्चना का एक छोटा उपकरण हूं। एकल गीत। rss ekal geet | pujy ma ke archna

एकल गीत। rss ekal geet | pujya maa ke archna

 

पूज्य मां की अर्चना

पूज्य मां की अर्चना का , एक छोटा उपकरण हूं। 

उच्च है वह शिखर देखो  , मैं नहीं वह स्थान लूंगा। 

और चित्रित भीती का है  , मैं नहीं शोभा बनूंगा।

पूज्य है यह मातृमंदिर  ,नींव का मैं एक कण हूं। 

पूज्य मां की अर्चना का ,एक छोटा उपकरण हूं। । 

 

 

मुकुट मां का जगमगाता  , मै नहीं सोना बनूंगा

जगमगाते रत्न देखो  , मैं नहीं हीरा बनूंगा। 

पूज्य मां की चरण रज का  ,एक छोटा धूलकण हूं। 

पूज्य मां की अर्चना का , एक छोटा उपकरण हूं। । 

 

पूज्य मां की अर्चना
पूज्य मां की अर्चना

आरती भी हो रही है  , गीत बन कर क्या करूंगा। 

पुष्पमाला चढ़ रही है  , फूल बन कर क्या करूंगा। 

माली का एक तंतु  , गीत का मैं एक स्वर हूं। 

पूज्य मां की अर्चना का , एक छोटा उपकरण हूं। । 

 

यह भी पढ़ें –

स्वयं अब जागकर हमको जगाना देश है अपना

बढ़ना ही अपना काम है | आरएसएस गीत 

मातृभूमि गान से गूंजता रहे गगन। गणगीत rss

भारत माता तेरा आँचल। संघ गीत

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है

 

विद्या ददाति विनयम

कलयुग में शक्ति का एक मात्र साधन संघ है। अर्थात जो लोग एकजुट होकर संघ रूप में रहते हैं , संगठित रहते हैं उनमें ही शक्ति है।

आपसे अनुरोध है कि अपने विचार कमेंट बॉक्स में सम्प्रेषित करें। 

फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से अपने सुभेक्षु तक भेजें। 

अपना फेसबुक लाइक तथा यूट्यूब पर सब्स्क्राइब करना न भूलें। 

facebook  page

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *