भारत का भूगोल तड़पता। गण गीत | bharat ka bhugol tadpta geet |

भारत का भूगोल तड़पता bharat ka bhoogol tadpta geet

 

भारत का भूगोल तड़पता , तड़प रहा इतिहास है
तिनका-तिनका तड़प रहा है , तड़प रही हर सांस है |
सिसक रही है सरहद सारी , मां के छाले कहते हैं
ढूंढ रहा हूं किन गलियों में , अर्जुन के सूत रहते हैं
गली-गली और चौराहों पर , फिर आवाज़ लगाता हूं  |

 

मन का गायक रोता है पर , मजबूरी में गाता हूं
जब तक मेरी खोई धरती , वापस नहीं दिलाओगे
सच कहता हूं तब तक मुझसे , गीत नहीं सुन पाओगे  |
भारत का भूगोल तड़पता , तड़प रहा इतिहास है
तिनका तिनका तड़प रहा है , तड़प रही हर सांस है।

 

मां का आंचल तार-तार है , और मनाए हम जलसे
रक्त पान के बदले चुप – चुप , पीते हैं मधु के कलसे
नस – नस ऐंठ रही जननी की , हम उलझे है पायल में ,
घायल मां को भुला दिए हैं , मेहंदी , महवर, काजल में  |

 

जब तक मेरी खोई धरती , वापस नहीं दिलाओगे
सच कहता हूं तब तक मुझसे , गीत नहीं सुन पाओगे |
भारत का भूगोल तड़पता , तड़प रहा इतिहास है
तिनका तिनका तड़प रहा है , तड़प रही हर सांस है।

 

आज नई पीढ़ी की ज्वाला , बुझी-बुझी क्यों लगती है
चबा जाए जो सूर्य पिंड को , कहां गई वह शक्ति है  |
मुट्ठी भर बारूद उड़ाकर , जिसने आंगन जला दिया
कैसे तुमने उस दुश्मन को , इतनी जल्दी भुला दिया |

 

जब तक मेरा खोया आंगन , वापस नहीं दिलाओगे
सच कहता हूं तब तक मुझसे , गीत नहीं सुन पाओगे  |
भारत का भूगोल तड़पता , तड़प रहा इतिहास है
तिनका तिनका तड़प रहा है , तड़प रही हर सांस है। तड़प रही हर सांस है…..

 

यह भी पढ़ें –

भारत माता तेरा आँचल। संघ गीत

चलो भाई चलो शाखा में चलो।rss best geet

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है

संगठन हम करें आफतों से लडे हमने ठाना।sangh geet

निज गौरव को निज वैभव को क्यों हिन्दू बहदुर भूल गए  rss geet

 

यह गण  गीत संघ के सभी सभी अवसरों पर गणगीत के रूप में गाया जाता है जो ओज रस से परिपूर्ण है। हम यह गीत का संकलन इस उद्देश्य से तैयार कर रहें है जिससे आपको आसानी से गीत उपलब्ध हो सके अन्य ढेर साड़ी गीते भी इस वेबसाइट पर उपलब्ध है।

आपसे अनुरोध है कि अपने विचार कमेंट बॉक्स में सम्प्रेषित करें। 

फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से अपने सुभेक्षु तक भेजें। 

अपना फेसबुक लाइक तथा यूट्यूब पर सब्स्क्राइब करना न भूलें। 

facebook  page

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *