संघ गीत माला। भारत माता तेरा आँचल।चलो भाई चलो शाखा में चलो।भारत की माटी से

संघ गीत माला

भारत माता तेरा आँचल

 

भारत माता तेरा आँचल , हरा – भरा धानी – धानी।

मीठा – मीठा चम् -चम करता , तेरी नदियों का पानी। २

हरी हो गयी बंजर धरती , नाचे झरनो में बिजली।

सोना चांदी उगल रही है , तेरी नदियों का पानी।

भारत माता तेरा आँचल , हरा – भरा धानी – धानी।

मीठा – मीठा चम् -चम करता , तेरी नदियों का पानी।

मस्त हवा जब लहराती है , दूर – दूर तक पहुंचाती है।

तेरे ऊँचे ऊँचे पर्वत , निडर बहादुर सेनानी  .

भारत माता तेरा आँचल , हरा – भरा धानी – धानी।

मीठा – मीठा चम् -चम करता , तेरी नदियों का पानी।

 

चलो भाई चलो शाखा में चलो

चलो भाई चलो शाखा में चलो

थोड़ी देर अब तुम सब काम भूलो  ,

चलो भाई चलो संग संग चलो।

आज के दिन जरा हंसो और खेलो। ।

चलो भाई चलो शाखा में चलो …………….

राम कृष्ण के वारिस हम ,

गर्व से कहते हिन्दू हम ,

भगवा ध्वज है पूज्य परम ,

वंदन करो संग – संग चलो। ।

चलो भाई चलो शाखा में चलो …………….

जीजा का मातृत्व हमे

शौर्य लक्ष्मी का है तन में

मौसी जी की आन हम

आगे बढ़ो और संग संग चलो। ।

चलो भाई चलो शाखा में चलो …………….

छोटे – छोटे बचे हम

काम बड़ा करेंगे हम

धैर्य की रक्षा करेंगे हम

कहेंगे वनडे मातरम्। ।

चलो भाई चलो शाखा में चलो …………….

शाखा में है रियल फन

कब्बडी खो – खो में रमता मन

करो योग भूलो गम

कदम मिलाओ और संग – संग चलो। ।

चलो भाई चलो शाखा में चलो …………….

थोड़ी देर अब तुम सब काम भूलो  ,

चलो भाई चलो संग संग चलो।

 

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है ,

माटी से अनुपम प्यार है , माटी से अनुपम प्यार है। । २

इस धरती पर जन्म लिया था दसरथ नंन्दन राम ने ,

इस धरती पर गीता गायी यदुकुल – भूषण श्याम ने।

इस धरती के आगे झुकता मस्तक बारम्बार है। ।

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है………..

इस धरती की गौरव गाथा गायी राजस्थान ने ,

इस पुनीत बनाया अपने वीरों के बलिदान ने।

मीरा के गीतों की इसमें छिपी हुई झंकार है। ।

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है………..

कण – कण मंदिर इस माटी का कण – कण में भगवान् है ,

इस माटी से तिलक करो यह मेरा हिन्दुस्तान है।

हर हिन्दू का रोम रोम भारत का पहरेदार है। ।

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है………..

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है ,

माटी से अनुपम प्यार है , माटी से अनुपम प्यार है। ।

 

 

यह पोस्ट भी पढ़ें – संघ को जाने क्या है क्यों आवश्यक है 

आपसे अनुरोध है कि अपने विचार कमेंट बॉक्स में सम्प्रेषित करें। 

फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से अपने सुभेक्षु तक भेजें। 

अपना फेसबुक लाइक तथा यूट्यूब पर सब्स्क्राइब करना न भूलें। 

facebook  page

Leave a Comment

error: Content is protected !!