आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुण्ड।Arambh hai parchand lyrics in hindi

आरम्भ है प्रचण्ड Arambh hai parchand lyrics in hindi     आरम्भ है प्रचण्ड, बोले मस्तकों के झुंड, आज ज़ंग की घड़ी की तुम गुहार दो आन बान शान या कि जान का हो दान आज इक धनुष के बाण पे उतार दो आरम्भ है प्रचण्ड… मन करे सो प्राण दे, जो मन करे सो … Read more आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुण्ड।Arambh hai parchand lyrics in hindi