अरुण गगन पर महाप्रगति का। RSS GEET Arun gagan par | गणगीत आरएसएस

अरुण गगन पर महाप्रगति का। RSS GEET Arun gagan par | गणगीत आरएसएस

अरुण गगन पर महाप्रगति का

RSS GEET – Arun gagan par

 

अरुण गगन पर महाप्रगति का , अब फिर मंगल गान उठा।

करवट बदली अंगड़ाई ली , सोया हिंदुस्तान उठा। ।२ 

 

सौरभ से भर गई दिशाएं , अब धरती मुस्काती है।

कण-कण गाता गीत गगन की , सीमा अब दोहराती है।

मंगल गाना सुनाता सागर , गीत दिशाएं गाती है।

मुक्त पवन पर राष्ट्र पताका , लहर – लहर लहराती है।

तरुण रक्त फिर लगा खौलने , हृदयों में तूफान उठा। ।

अरुण गगन पर महाप्रगति का , अब फिर मंगल गान उठा।

यह भी पढ़ें – मातृभूमि गान से गूंजता रहे गगन 

 

 

रामेश्वर का जल अंजलि में , कश्मीर की सुंदरता।

कामरूप की धुलि,  द्वारिका , की पावन प्यारी माता।

बंग – देश की भक्ति – भावना , महाराष्ट्र की तन्मयता।

शौर्य पंचनाद का औ , राजस्थानी विश्वविजय क्षमता।

केंद्रित कर निज प्रखर तेज से , फिर भारत बलवान उठा।

अरुण गगन पर महाप्रगति का , अब फिर मंगल गान उठा।

rss geet best geet ,गणगीत आरएसएस

बूंद – बूंद जल मिलकर बनती , प्रलयंकर जल की धारा।

कण – कण भू -रज मिलकर करती , अंधकारमय  नभ सारा।

कोटि – कोटि हम जगे जगाएं , भारतीयता का नारा।

बढ़े , विश्व के बढ़ते कदमों ने , फिर हमको ललकारा।

उठे,  देश के कण – कण से फिर , जन – जन का आह्वान उठा।

अरुण गगन पर महाप्रगति का , अब फिर मंगल गान उठा।

करवट बदलती अंगड़ाई ली , सोया हिंदुस्तान उठा। 

अरुण गगन पर महाप्रगति का , अब फिर मंगल गान उठा।

 

आरएसएस बेस्ट गीत – स्वयं जागकर हमको जगाना है देश अपना 

आपसे अनुरोध है कि अपने विचार कमेंट बॉक्स में सम्प्रेषित करें। 

फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से अपने सुभेक्षु तक भेजें। 

अपना फेसबुक लाइक तथा यूट्यूब पर सब्स्क्राइब करना न भूलें। 

facebook  page

आचार्य चाणक्य के सुविचार अमृत वचन 

Leave a Comment

error: Content is protected !!