आज तन मन और जीवन। RSS BEST GEET | संघ गीत। गण गीत।

आज तन मन और जीवन

आज तन मन और जीवन

धन सभी कुछ को समर्पण

राष्ट्रहित की साधना में , हम करें सर्वस्व अर्पण …………..२

 

त्यागकर हम शेष जीवन की ,सुसंचित कामनायें

ध्येय के अनुरूप जीवन , हम सभी अपना बनायें

पूर्ण विकसित शुद्ध जीवन-पुष्प से हो राष्ट्र अर्चन ……..। ।

 

यज्ञ हिट हो पूर्ण आहुति , व्यक्तिगत संसार स्वाहा

देश के कल्याण में हो , अतुल धन भण्डार स्वाहा

कर सके विचलित न किंचित मोहके कठिन बंधन ……..।।

 

हो रहा आह्वान तो फिर , कौन असमंजस हमे है

उच्चतर आदर्श पावन प्राप्त युग युग से हमे है

हम ग्रहण कर लें पुनः वह त्यागमय परिपूर्ण जीवन …….। ।

यह गीत भी पढ़ें – आज यही युगधर्म हमारा

आपसे अनुरोध है कि अपने विचार कमेंट बॉक्स में सम्प्रेषित करें।

फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से अपने सुभेक्षु तक भेजें।

अपना फेसबुक लाइक तथा यूट्यूब पर सब्स्क्राइब करना न भूलें।

facebook page

Leave a Comment

error: Content is protected !!