RSS GEET ( संघ गीत )

फिर क्या दूर किनारा संघ गीत हिंदी में। rss best geet in hindi | गणगीत आरएसएस हिंदी

फिर क्या दूर किनारा संघ गीत – fir kya door kinara rss geet written here full lyrics

 

फिर क्या दूर किनारा

 

फिर क्या दूर किनारा

त्याग प्रेम के पथ पर चलकर

मूल न कोई हारा।

हिम्मत से पतवार सम्भालो

फिर क्या दूर किनारा।

हो जो नहीं अनुकूल हवा तो

परवा उसकी मत कर।

मौजों से टकराता बढ़ चल

उठ मांझी साहस धर।

धुंध पड़े या आंधी आये

उमड़ पड़े जल धारा। ।

हाथ बढ़ा पतवार को पकड़ो

खोल खवैया लंगर।

मदद मल्लाहों की करता है

बाबा भोले संकर।

जान हथेली पर रखकर

लाखों को तूने तारा। ।

दरियाओं की छाती पर था

तूने होश संभाला।

लहरों की थपकी से सोया

तूफानों ने पाला

जी भर खेला डोल भंवर से

जीवन मस्त गुजारा। ।

भारत माता तेरा आँचल। संघ गीत

चलो भाई चलो शाखा में चलो।rss best geet

हमको अपनी भारत की माटी से अनुपम प्यार है

संगठन हम करें आफतों से लडे हमने ठाना।sangh geet

निज गौरव को निज वैभव को क्यों हिन्दू बहदुर भूल गए | NIJ GAURAV KO BAIBHW KO

संगठन गढ़े चलो सुपंथ पर बढे चलो। आरएसएस गीत।

महाभारत के पात्र शांतनु और गंगा की पूरी कहानी sampoorna mahabharat

महाभारत कथा शांतनु सत्यवती का मिलन | shantnu and satyawati story

 

हमारा फेसबुक पेज like करें

facebook  page

android app 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *