Hanuman chalisa
संघ को जाने

Hanuman chalisa sampoorna lyrics | पूरी हनुमान चालीसा इन हिंदी लिरिक्स

संपूर्ण हनुमान चालीसा नीचे लिखी हुई आपको मिलने जा रही है | इस में दोहा चोपाई सब अच्छे से दिया हुआ है | आशा है आपको पसंद आएगा | अगर कोई सुझाव आप हमे देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करियेगा | जय श्री राम |

यहाँ से आरम्भ –

हनुमान चालीसा

 

दोहा :

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।
बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।।
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।।

 

हनुमान
Hanuman chalisa ( हनुमान चालीसा )

 

चौपाई :

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।
जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।

रामदूत अतुलित बल धामा।
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।

महाबीर बिक्रम बजरंगी।
कुमति निवार सुमति के संगी।।

कंचन बरन बिराज सुबेसा।
कानन कुंडल कुंचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।
कांधे मूंज जनेऊ साजै।

संकर सुवन केसरीनंदन।
तेज प्रताप महा जग बन्दन।।

विद्यावान गुनी अति चातुर।
राम काज करिबे को आतुर।।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।
राम लखन सीता मन बसिया।।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।
बिकट रूप धरि लंक जरावा।।

भीम रूप धरि असुर संहारे।
रामचंद्र के काज संवारे।।

लाय सजीवन लखन जियाये।
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।।

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।
अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।
नारद सारद सहित अहीसा।।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते।
कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।
राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।
लंकेस्वर भए सब जग जाना।।

जुग सहस्र जोजन पर भानू।
लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।
जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।

दुर्गम काज जगत के जेते।
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।
तुम रक्षक काहू को डर ना।।

आपन तेज सम्हारो आपै।
तीनों लोक हांक तें कांपै।।

भूत पिसाच निकट नहिं आवै।
महाबीर जब नाम सुनावै।।

नासै रोग हरै सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

संकट तें हनुमान छुड़ावै।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

यह भी पढ़ें –दया कर दान भक्ति का हमे परमात्मा देना

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिन के काज सकल तुम साजा।

और मनोरथ जो कोई लावै।
सोइ अमित जीवन फल पावै।।

चारों जुग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा।।

साधु-संत के तुम रखवारे।
असुर निकंदन राम दुलारे।।

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।
अस बर दीन जानकी माता।।

राम रसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा।।

तुम्हरे भजन राम को पावै।
जनम-जनम के दुख बिसरावै।।

अन्तकाल रघुबर पुर जाई।
जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।।

और देवता चित्त न धरई।
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।

यह भी पढ़ें – तेरी है जमीं तेरा आसमान प्रार्थना हिंदी

संकट कटै मिटै सब पीरा।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जै जै जै हनुमान गोसाईं।
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।

जो सत बार पाठ कर कोई।
छूटहि बंदि महा सुख होई।।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।
होय सिद्धि साखी गौरीसा।।

तुलसीदास सदा हरि चेरा।
कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।।

दोहा :

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।

READ MORE –

महाभारत के पात्र शांतनु और गंगा की पूरी कहानी sampoorna mahabharat

महाभारत कथा शांतनु सत्यवती का मिलन | shantnu and satyawati story

 

हनुमान परमेश्वर श्री राम की भक्ति की सबसे लोकप्रिय अवधारणाओं, और भारतीय महाकाव्य रामायण ; में सबसे महत्वपूर्ण व्यक्तियों में प्रधान हैं। और कुछ विचारों के अनुसार तो भगवान शिवजी के ११वें रुद्रावतार माने जाते हैं | रामायण के अनुसार वे माता जानकी के अत्यधिक प्रिय हैं।

इस धरा पर जिन सात मनीषियों को अमरत्व का वरदान प्राप्त है, उनमें बजरंगबली भी हैं। हनुमान जी का अवतार भगवान राम की सहायता के लिये हुआ था । हनुमान जी के पराक्रम की असंख्य गाथाएं प्रचलित हैं।

इन्होंने जिस तरह से राम के साथ सुग्रीव की मैत्री कराई और फिर वानरों की मदद से राक्षसों का मर्दन किया, वह अत्यन्त प्रसिद्ध है।

 

सरस्वती वंदना देवी पूजन sarswati vandna

संघ प्रार्थना नमस्ते सदा वतस्ले मातृभूमे

ऐ मालिक तेरे बन्दे हम प्रार्थना 

सूर्य नमस्कार मन्त्र हिंदी में उच्चारण सहित

गायत्री मन्त्र का माहत्म्य स्वस्थ्य के लिए लाभदायक

हमारा फेसबुक पेज like करें

facebook  page

android app 

2 thoughts on “Hanuman chalisa sampoorna lyrics | पूरी हनुमान चालीसा इन हिंदी लिरिक्स”

    1. Thank you sir, we are doing too much efforts to bring best content in hindi for you people. We want your support and appreciation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *